आत्माओं के बीच गैंगवार दिखाएगी ‘इन्क्रेडिबल इंडिया’

—अनिल बेदाग—

मुम्बई।सिनेमाई जगत में यह अपने आपमें अनोखी घटना होगी जब कोई फिल्म 13 भाषाओं में एक साथ प्रदर्शित होने जा रही हो। आर आर बैनर तले बनी हिन्दी फिल्म ‘‘इन्क्रेडिबल इंडिया’’ के निर्माता राज सिंह राजपूत और रेणुका सिंह राजपूत ने 21 फरवरी 2020 को यह फिल्म रिलीज़ करने का फैसला किया है। बता दें की बाॅलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में पहली बार कोई फिल्म 13 भाषाओं में रिलीज हो रही है जिससे एक बाॅलीवुड में एक अविस्मरणीय पहल है। इन्क्रेडिब्ल इंडिया फिल्म का म्यूजिक व ट्रेलर 7 जनवरी को रिलीज होगा। निर्माता व निर्देशक राज सिंह ने बताया कि इस फिल्म की कमाई का 25 प्रतिशत देश के शहीद वीर जवानों व जरूरतमंद किसानों के परिवार को देंगे। यह फिल्म देशभक्ति के इर्द-गिर्द हाॅरर, काॅमेडी, सस्पेंस व एक्शन थ्रिलर के साथ मनोरंजन से भरपूर है। फिल्म में दो देशों की आत्माओं की गैंग की लड़ाई को दर्शाया गया है। फिल्म की कहानी में एक पहलू ये भी है कि जो इंसान जीते जी कुछ नहीं कर पाये वो आत्मायें मरने के बाद हिन्दुस्तान को बर्बाद करने की कोशिश करती हैं, मगर हिन्दुस्तान ‘‘बसुधैव कुटुंबकम’’ की धारणा को अपनाने वाला देश है, तो कैसे संभव हो सकता है कि बुरी आत्मायें हिन्दुस्तान का कुछ बिगाड़ सकें?


अनिल बेदाग—

सिनेमाई जगत में यह अपने आपमें अनोखी घटना होगी जब कोई फिल्म 13 भाषाओं में एक साथ प्रदर्शित होने जा रही हो। आर आर बैनर तले बनी हिन्दी फिल्म ‘‘इन्क्रेडिबल इंडिया’’ के निर्माता राज सिंह राजपूत और रेणुका सिंह राजपूत ने 21 फरवरी 2020 को यह फिल्म रिलीज़ करने का फैसला किया है। बता दें की बाॅलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में पहली बार कोई फिल्म 13 भाषाओं में रिलीज हो रही है जिससे एक बाॅलीवुड में एक अविस्मरणीय पहल है। इन्क्रेडिब्ल इंडिया फिल्म का म्यूजिक व ट्रेलर 7 जनवरी को रिलीज होगा। निर्माता व निर्देशक राज सिंह ने बताया कि इस फिल्म की कमाई का 25 प्रतिशत देश के शहीद वीर जवानों व जरूरतमंद किसानों के परिवार को देंगे। यह फिल्म देशभक्ति के इर्द-गिर्द हाॅरर, काॅमेडी, सस्पेंस व एक्शन थ्रिलर के साथ मनोरंजन से भरपूर है। फिल्म में दो देशों की आत्माओं की गैंग की लड़ाई को दर्शाया गया है। फिल्म की कहानी में एक पहलू ये भी है कि जो इंसान जीते जी कुछ नहीं कर पाये वो आत्मायें मरने के बाद हिन्दुस्तान को बर्बाद करने की कोशिश करती हैं, मगर हिन्दुस्तान ‘‘बसुधैव कुटुंबकम’’ की धारणा को अपनाने वाला देश है, तो कैसे संभव हो सकता है कि बुरी आत्मायें हिन्दुस्तान का कुछ बिगाड़ सकें? अधिक जानने के लिए आपको 21 फरवरी तक इंतज़ार करना होगा।

अपने शहर का अपना एप अभी डाउनलोड करें .

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com