जानिये पंडित वीर विक्रम नारायण पाण्डेय से क्या कहते है आपके सितारे

जीवनमंत्र।जानिये पंडित वीर विक्रम नारायण पाण्डेय से क्या कहते है आपके सितारे

मेष का साप्ताहिक राशिफल……..

(4 नवम्बर से 10 नवम्बर)

इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके दशम भाव में होगा और इसके बाद एकादश, द्वादश और फिर अंत में आपके लग्न यानी प्रथम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के नवम भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके सप्तम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से दशम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको अपने कार्यक्षेत्र में प्रतिकूल स्थितियों से दो-चार होना पड़ सकता है। हफ्ते की शुरुआत में आपका मन कुछ हद तक विचलित होगा, जिसके कारण आप न चाहते हुए भी अपना मन अपने किसी भी कार्य में नहीं लगा पाएंगे। मन में चल रही इस अजीब सी बेचैनी से आपका पारिवारिक जीवन भी तनावपूर्ण रहेगा। इस दौरान आप न चाहते हुए भी किसी भी निर्णय को ले पाने में असफल महसूस करेंगे। इसके बाद चंद्र का गोचर एकादश भाव में होने से स्थितियों में कुछ हद तक सुधार देखने को मिलेगा क्योंकि इस वक़्त आपका दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा और उसमें आपको समय-समय पर कोई न कोई खुशख़बरी मिलती रहेगी। इस दौरान आपकी संतान अच्छा करेगी और उन्हें मनोनुकूल सफलता की प्राप्ति भी होगी। उच्च शिक्षा की तैयारी कर रहे छात्र भी इस समय अपना अच्छा प्रदर्शन दें पाएंगे, जिससे अपनी मेहनत के चलते सफलता भी उनके कदम चूमेगी। समय शुभ होगा और आपकी कई महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति होगी। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र का गोचर द्वादश भाव में होने से आपको किसी यात्रा पर ख़ास तौर से यदि आप शिक्षा के लिए विदेश जाने की योजना बना रहे थे तो इस समय वहां जाने का कोई अच्छा अवसर मिलेगा। हालांकि इस यात्रा पर आपके खर्चें भी अधिक होंगे। ग़ौरतलब है कि आप इस समय अपने सभी ख़र्चों पर लगाम रखने में भी कामयाब होंगे और आप अपने विरोधियों पर भी भारी पड़ेंगे। यदि पूर्व का कोई मामला कोर्ट कचहरी के चल रहा था तो इस समय उससे जुड़े परिणाम आपके पक्ष में आने की संभावना अधिक है। इसके बाद अंत में जब चंद्र देव आपकी राशि के प्रथम भाव यानी लग्न भाव में गोचर कर जाएंगे तो इससे आपको दांपत्य जीवन में सुख की अनुभूति होगी और आपकी संतान का आपके प्रति लगाव और प्रेम अधिक बढ़ेगा। जिससे आपके जीवन में आ रहा हर प्रकार का तनाव दूर हो सकेगा। छात्रों के लिए भी समय अच्छा रहेगा। इन सकारात्मक बदलावों से आपको मानसिक रूप से तनाव में कुछ राहत मिलेगी। कुल मिलाकर कहें तो ये समय आपके दांपत्य जीवन और छात्रों के लिए अच्छा साबित होगा। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके नवम भाव में गोचर करेंगे, जिससे आपको अपने कर्मों का अच्छा फल अवश्य मिलेगा। जो लोग नौकरी पेशा से जुड़े हैं या व्यवसाय करते हैं उन्हें इस गोचर से तरक्की मिलेगी। आपका पारिवारिक जीवन भी इस दौरान अच्छा रहेगा। इस समय आर्थिक पक्ष को सुधारने के लिए जो योजनाएं आपने बीते समय में बनाई थीं उनका सकारात्मक प्रभाव अब आपको देखने को मिलेगा। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके सप्तम भाव में होगा जिससे आपके दांपत्य जीवन में कुछ तनाव की स्थिति आ सकती है। हालांकि आप अपनी समझ से इससे निकल पाने में भी सफल रहेंगे। आपके व्यावसायिक साझीदार से आपके संबंधों में खटास आ सकती है। इस समय अपनी वाणी में मधुरता लाए और किसी भी कारण छोटे-बड़े विवाद में खुद को न उलझने दें अन्यथा आपको हानि हो सकती है।

वृष का साप्ताहिक राशिफल……..

इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके नवम भाव में होगा और इसके बाद दशम, एकादश और फिर अंत में आपके द्वादश भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के अष्टम भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव के गोचर भी इस सप्ताह आपके षष्ठम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से नवम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आप समाज में आपकी छवि कुछ हद तक कमज़ोर हो सकती है, क्योंकि इस समय आपके मान-प्रतिष्ठा में विशेष तौर पर कुछ कमी आएगी। इस समय अपने पिता जी की सेहत का ध्यान रखें उन्हें कोई परेशानी हो सकती है। आपकी किसी यात्रा पर जाने का अवसर मिलेगा, लेकिन उससे आपको हानि पहुँचेगी। इसलिए बेहतर यही होगा की अभी किसी भी यात्रा पर न जाएं। भाई-बहनों से आपके संबंधों में भी खटास देखी जाएगी। इन स्थितियों में आपको खुद को शांत रखने की ज़रूरत होगी। हालांकि इसके बाद चंद्रमा का गोचर आपके दशम भाव में होने से आपको अपने कार्यक्षेत्र में उन्नति मिलने से इन परेशानियों से कुछ राहत ज़रूर मिलेगी। आपके पारिवारिक जीवन के लिए भी ये समय अच्छा रहेगा और घर-परिवार में आपको सुख की अनुभूति होगी। जिसके चलते आप भी जितना मुमकिन होगा अपना ज़रूरी समय घर पर दे पाएंगे जिससे आपका परिवार के प्रति अधिक समय व्यतीत होगा। यदि पूर्व में आपकी माता जी का स्वास्थ्य खराब था तो इस समय उसमें सुधार आएगा। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र देव आपके एकादश भाव में प्रवेश कर जाएंगे, जिससे ये समय आपके लिए अनुकूल साबित होगा। इस वक़्त आप अपनी किसी प्रॉपर्टी को किराए पर देकर उससे लाभ उठा पाने में सफल रहेंगे। कार्य क्षेत्र पर आपको अपने वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग मिलेगा जिससे आप कार्य स्थल पर अपने काम में अपना अपना बेहतर प्रदर्शन दे पाएंगे। व्यापारियों को भी व्यापार में लाभ मिलेगा और आपकी आमदनी में भी बढ़ोतरी होगी। सप्ताह का अंत द्वादश भाव में चंद्र के गोचर के साथ होगा, जिससे आपके खर्चे बढ़ सकते हैं। आपके ये खर्चे घरेलू होंगे और ऐसे में आप न चाहते हुए भी व्यर्थ के कार्यों में अपना धन लगाएंगे। जिससे आगे चलकर इन्ही ख़र्चों में वृद्धि आपकी चिंता का मुख्य कारण बन सकती है। हालांकि जो लोग विदेशों में या घर से दूर रहते हैं उनके लिए ये समय विशेष तौर पर अनुकूल रहने वाला है। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके अष्टम भाव में गोचर करेंगे, जिससे आपको अपने जीवन में कुछ परेशानियों का सामना करना होगा। इस समय अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखते हुए बाहर के तले-चुने भाेज्य पदार्थों से परहेज करें नहीं तो आपको पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। संभव है कि किसी दुखद समाचार के मिलने से आपका मन व्यथित हो, इसलिए ध्यान रखें। इसके अलावा इस सप्ताह वक्री बुध और मंगल का गोचर भी आपकी राशि के षष्ठम भाव में होने से आपके शत्रु सक्रिय होंगे, लेकिन आप अपने विरोधियों पर भारी पड़ेंगे। इस समय आप कोई नया कर्ज लेकर अपने पुराने कर्ज को चुकाने का मन बना सकते है। इसलिए ऐसा करने से पहले ठीक से सोच-विचार करना आपके लिए बेहतर होगा। यदि आप विद्यार्थी हैं तो शिक्षा में अच्छे परिणामों की प्राप्ति होगी और आपकी कठिन मेहनत रंग लाएगी।

मिथुन का साप्ताहिक राशिफल…….

इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके अष्टम भाव में होगा और इसके बाद नवम, दशम और फिर अंत में आपके एकादश भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के सप्तम भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके पंचम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से अष्टम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको किसी कष्टदायक यात्रा पर जाना पड़ सकता है। इसलिए आपके लिए बेहतर यही होगा कि अभी फिलहाल उस यात्रा को टाल दें। इस समय आपके मानसिक तनाव में भी वृद्धि होगी, जिससे आपको स्वास्थ्य संबंधित कोई समस्या भी परेशान करेगी। आपके भाई-बहनों से भी आपके संबंध खराब हो सकते हैं, इसलिए उन्हें सुधारने की ओर कार्य करें। हालांकि इसके बाद नवम भाव में चंद्र के गोचर के दौरान यात्रा करना आपके लिए शुभ रहेगा और आपको अपने मित्रों संग अच्छी-अच्छी जगहों पर जाने का अवसर मिलेगा। इस समय आपके सकारात्मक प्रयास आपके मान-सम्मान में वृद्धि करने में मदद करेंगे, जिससे आपकी सामाजिक छवि को फायदा मिलेगा। सप्ताह के मध्य में चंद्र देव आपके दशम भाव में प्रवेश करेंगे, जिससे आपको अपने कार्य स्थल पर अपने सहकर्मियों का सहयोग मिलेगा। इसके अलावा जो लोग व्यापार करते हैं उन्हें भी अपने व्यापार में परिवार का पूरा सहयोग मिलेगा और इससे उन्हें लाभ भी पहुँचेगा। हालांकि आपके पारिवारिक जीवन के लिए ये समय उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा, इसलिए समय-समय पर अपने परिवार के साथ समय बिताए और उनसे बातचीत जारी रखें। सप्ताह के अंत में चंद्र देव आपके एकादश भाव में होंगे, जिससे आपको लाभ मिलेगा। आपके अपने भाई-बहनों से संबंधों में मधुरता आएगी। आपके कार्य क्षेत्र में भी आपको आमदनी में बढ़ोतरी नज़र आएगी। आप अपनी किसी इच्छा को या महत्वाकांक्षा को पूरा करने में सफल रहेंगे। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति देव आपके सप्तम भाव में गोचर करेंगे, जिससे आपको अपने साथी संग किसी यात्रा पर जाने का अवसर मिलेगा। इस समय गुरु ग्रह के शुभ प्रभावों से आपका आर्थिक पक्ष भी मजबूत होगा और आपको धन लाभ हो सकता है। ऐसे में यदि आप किसी कार्य में निवेश करने का सोच रहे थे तो उसके लिए समय सर्वश्रेष्ठ है, इसका अधिक से अधिक लाभ उठाए। आपको स्वादिष्ट व्यंजनों को खाने का अवसर मिलेगा और आपकी वाणी में भी मधुरता देखने को मिलेगी। इसके अलावा इस सप्ताह वक्री बुध और मंगल ग्रह का गोचर भी आपकी राशि के पंचम भाव में होने जा रहा है, जिससे आपका मन नई-नई चीजों को सीखने के लिए लालायित होगा और आप इसके लिए अतिरिक्त प्रयास और धन खर्च करते दिखाई देंगे। यदि आप विद्यार्थी हैं तो अपने सभी मुश्किल विषयों को सही से समझ लें, अन्यथा कुछ परेशानी हो सकती है। इस समय आप अपनी संतान के प्रति काफी गंभीर रहेंगे और उनकी सफलता को लेकर आप भी अपनी ओर से प्रयास करेंगे। इस गोचर के दौरान आपको अच्छी आमदनी प्राप्त होने के योग बनेंगे और आपका हाथ पैसों से खाली नहीं रहेगा।
कर्क का साप्ताहिक राशिफल…….

इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके सप्तम भाव में होगा और इसके बाद अष्टम, नवम और फिर अंत में आपके दशम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के षष्ठम भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके चतुर्थ भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको अपने दांपत्य जीवन में तनावपूर्ण स्थितियों से दो-चार होना पड़ सकता है। इस समय आपको और आपके जीवन साथी को कुछ स्वास्थ्य संबंधित कष्ट भी उठाना पड़ेगा। हालांकि व्यापारी वर्ग को अपने कार्यक्षेत्र पर कुछ समस्या आ सकती है, इसलिए इस समय बहुत ध्यान से किसी भी प्रकार के लेन-देन को करें। अन्यथा धन हानि के योग बन रहे हैं। इसके बाद चंद्र देव आपके अष्टम भाव में गोचर करेंगे जिससे आपको मानसिक तनाव मिलेगा। इसके साथ ही धन की समस्या महसूस होगी, लेकिन आपको अचानक से अलग-अलग स्रोतों से धन का लाभ भी होता रहेगा। हालांकि आपके पिता जी को स्वास्थ्य संबंधी विकार हो सकता है, इसलिए उनका ध्यान रखें। इसके बाद सप्ताह के मध्य में नवम भाव में चंद्र के गोचर के दौरान आपकी किसी यात्रा पर जाने का योग बनेगा। इस यात्रा पर आप अपना धन भी खर्च करेंगे। बावजूद इसके आपको इस यात्रा से कुछ अच्छे अनुभवों की प्राप्ति भी होगी। ये समय आपके भाई-बहनों के लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता क्योंकि संभावना है कि उन्हें कोई समस्या आए। इसके बाद सप्ताह के अंत में चंद्र देव का गोचर आपकी राशि के दशम भाव में होगा जिससे आपको अपनी मेहनत के अनुसार अपने कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी। ये समय विशेषतौर से सरकारी और मैनेजमेंट क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए अच्छा रहेगा क्योंकि इस समय उन्हें लाभ मिलने के योग बन रहे हैं। इस समय संभावना है कि आप कही निवेश करें, इसलिए यदि इस बारे में पूर्व में विचार कर रहे थे तो ये समय इसके लिए अच्छा है। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके षष्ठम भाव में गोचर करेंगे, जिससे आपको अपनी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से झूझना पड़ सकता है। इसलिए अपने मानसिक स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखें। इसके लिए सबसे बेहतर होगा प्राणायाम करना। यदि आप नौकरी पेशा हैं तो गुरु के गोचर से आपके कुछ सहकर्मी आपके खिलाफ साजिशें कर सकते हैं इसलिए आपको अपने कार्य क्षेत्र में बहुत सतर्कता से चलना होगा। साझेदारी में कारोबार करने वाले लोगों को भी धन संबंधी मामलों में अपने साझेदार पर नज़र बनाए रखनी होगी। वहीं वक्री बुध और मंगल का गोचर आपके राशि के चतुर्थ भाव में होने से आपको कुछ प्रतिकूल परिणामों की प्राप्ति होगी। जिससे एक ओर जहां आपकी माताजी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है, तो वहीं दूसरी ओर पारिवारिक जीवन में भी कलह देखने को मिल सकती है। इसकी वजह लोगों का एक दूसरे के प्रति अधिक और बेमतलब का बोलना होगी। इस कारण पारिवारिक जीवन थोड़ा तनावपूर्ण रहेगा। इस समय आपके लिए बेहतर रहेगा कि सभी विपरीत स्थितियों में खुद को शांत रखते हुए सही निर्णय लेने की।

सिंह का साप्ताहिक राशिफल……..
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके षष्ठम भाव में होगा और इसके बाद सप्तम, अष्टम और फिर अंत में आपके नवम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के पंचम भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके तृतीय भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से षष्ठम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको कमज़ोर स्वास्थ्य के चलते बीमारियों से परेशानी उठानी पड़ सकती है। इस समय अपने शत्रु पक्ष को नज़रअंदाज़ न करें क्योंकि शत्रुओं और विरोधियों के प्रबल होने के योग बन रहे हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को इस समय सफलता पाने के लिए कठिन परिश्रम करना होगा तभी शुभ फलों की प्राप्ति होगी। इस सप्ताह न चाहते हुए भी आपके कुछ खर्चें हो सकते हैं। हालांकि इस भाव के बाद चन्द्रमा आपकी राशि के सप्तम भाव में गोचर कर जाएगा जिससे आपको जीवन में मिश्रित फलों की प्राप्ति होगी। इस समय जीवन के कई क्षेत्रों में आपको परिश्रम करना होगा। आपके दांपत्य जीवन में तो इस समय मधुरता रहेगी और आप अपने जीवन साथी के प्रति समर्पण रखेंगे। लेकिन बावजूद इसके जीवनसाथी का खराब स्वास्थ्य आपके रिश्ते की मधुरता में कुछ खटास लाने का काम करेगी। इस समय आपके बेवजह के खर्चे भी बढ़ेंगे जिससे आपको आगे चलकर आर्थिक तंगी महसूस हो सकती है। हालांकि चंद्र देव जब मध्य में आपके अष्टम भाव में होंगे तो आप किसी गंभीर दुविधाओं में खुद को घिरा हुआ पाएंगे। क्योंकि इस वक़्त आपका स्वास्थ्य कमजोर होने से आप किसी भी कार्य में अपना मन नहीं लगा पाएंगे और इससे आपको हानि होगी। इसलिए इस तरह की हर परिस्थितियों से खुद को बचाने के लिए जितना मुमकिन हो खराब भोजन और दूषित जल पीने से बचें। इसके अलावा आपके कुटुंब में किसी बात को लेकर अन-बन होने से भी आपको मानसिक तनाव होगा। हालांकि सप्ताह के अंत में चंद्र देव आपकी राशि से नवम भाव में गोचर करेंगे, जिस दौरान आपके हालातों में कुछ सुधार आएगा और आप इस समय अच्छा महसूस कराने के लिए किसी धार्मिक अथवा रोमांटिक स्थल की सैर पर जाने का प्लान बना सकते हैं। इस समय आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा जिससे आपका खराब स्वस्थ भी सुधरता दिखाई देगा। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके पंचम भाव में गोचर करेंगे, इसलिए यह गोचर आपके लिए लाभदायक साबित होगा। इस समय आप सामाजिक स्तर पर अपने अच्छे संपर्क बना पाने में कामयाब होंगे जो आपके व्यावसायिक और निजी जीवन को सरल बनाने में अहम भूमिका निभाएगा। आपके मन में दूसरों के प्रति इस गोचर से दया का भाव रहेगा और आप परोपकारी कामों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले सकते हैं। आपके माता-पिता इस दौरान आपके व्यवहार से खुश रहेंगे। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल का गोचर भी आपकी राशि के तृतीय भाव में होने से आपके प्रयासों में वृद्धि होगी और आप किसी भी काम को करने के लिए अपनी ओर से शत-प्रतिशत हर संभव प्रयास करेंगे। आप अपने छोटे भाई बहनों की आर्थिक तौर पर मदद भी करेंगे हालांकि आपकी मदद के बावजूद भी उन्हें किसी तरह की समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। संचार माध्यमों के द्वारा आपको किसी प्रकार का शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है। छोटी दूरी की यात्राएं आपके लिए इस समय लाभकारी साबित होंगी, इसलिए उनसे अधिक से अधिक लाभ उठाए।

तुला का साप्ताहिक राशिफल………
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके चतुर्थ भाव में होगा और इसके बाद पंचम, षष्ठम और फिर अंत में आपके सप्तम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के तृतीया भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके प्रथम यानी आपके लग्न भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको अपनी माता जी की सेहत का ख़ास ध्यान रखना होगा, क्योंकि उनका स्वास्थ्य बिगड़ने के योग बनते दिखाई दे रहे हैं। पारिवारिक जीवन में घरेलू झगड़े आपका तनाव बढ़ाने का काम करेंगे, इससे आपको मानसिक अशांति का अनुभव होगा। आपको घर-परिवार से ज़रूरत से भी कम सहयोग मिलेगा, जिससे आप उदास हो सकते हैं। आपके कार्य क्षेत्र में भी इस समय उतार-चढ़ाव की स्थितियाँ बनी रहेगी, इसलिए बेहतर यही होगा कि इन स्थितियों से भागने की बजाय उन्हें लेकर सतर्कता बरतें। इसके बाद पंचम भाव में चंद्र के गोचर के समय आपको अपनी रचनात्मक कला को लोगों तक पहुंचाने की ज़रूरत महसूस होगी। अपनी इसी कला के चलते आप अपनी इच्छाओं की पूर्ति कर पाएंगे। आपको आर्थिक लाभ भी मिलेगा। दांपत्य जीवन में संतान के प्रति आप गंभीर नज़र आएँगे। छात्रों के लिए भी समय अच्छा है, उन्हें भी सफलता मिलने की संभावना अधिक है। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्रमा का गोचर आपके षष्ठम भाव में होने से आपकी आमदनी में कुछ कमी आ सकती है। लेकिन नौकरी पेशा लोग अपने बेहतर प्रदर्शन के चलते कार्य को पूरा कर पाएंगे। लेकिन बावजूद इसके संभावना है कि किसी कारण वश आपके अपने वरिष्ठ अधिकारियों से संबंध खराब हो जाएं। इसलिए कार्य स्थल पर किसी भी अधिकारी से विवाद की स्थिति में न पड़े अन्यथा भविष्य में नुक्सान हो सकता है। सप्ताह का अंत सप्तम भाव में चंद्र के गोचर से होगा। इस गोचर काल से सबसे अधिक फायदा व्यापारियों को होने की संभावना है। इसलिए यदि आप व्यवसाय करते हैं तो इस समय आपको आर्थिक लाभ के कई अवसर मिल सकते हैं। जिस कारण धन लाभ तो होगा ही साथ ही समाज में भी आपके मान-सम्मान में बढ़ोतरी देखी जाएगी। इस समय आप निर्णय लेने में खुद को सक्षम महसूस करेंगे। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके तृतीया भाव में गोचर करेंगे, इसलिए ये गोचर आपके लिए ज्यादा लाभदायक नहीं कहा जा सकता है। आपके अंदर आलस्य की बढ़ोतरी इस समय साफ़ देखी जाएगी, जिस कारण आप कई अहम कार्यों को कल पर टालने की कोशिश करेंगे। आपको किसी अनचाही यात्रा भी करनी पड़ सकती हैं। आपको कार्यक्षेत्र पर विशेष रूप से अपने कार्य और मेहनत को गति देने की ज़रूरत होगी तभी आप अच्छा कर पाएंगे। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल ग्रह का गोचर भी इस हफ्ते आपकी ही राशि में अर्थात आपके लग्न भाव में हो रहा है, जिससे आपको पूरा करने में बार-बार मेहनत करने की ज़रूरत होगी। जिससे आपको कुछ तनाव भी महसूस होगा। हालांकि इस समय आपको किसी विदेशी स्रोत से कोई लाभ मिल सकता है। वहीं भाग्य भी आपका पूरा साथ देगा इसलिए जो कोई भी आप कार्य करें उसे पूरे मन से करें, फिर आपको सफलता मिलने से कोई नहीं रोक पाएगा।
कन्या का साप्ताहिक राशिफल………
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके पंचम भाव में होगा और इसके बाद षष्ठम, सप्तम और फिर अंत में आपके अष्टम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के चतुर्थ भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके द्वितीय भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको अपने अहम पर नियंत्रण रखने की ज़रूरत होगी। छात्रों के लिए ये समय अच्छा नहीं है, क्योंकि उन्हें अपनी पढ़ाई-लिखाई में किसी तरह की कोई बाधा का सामना करना पड़ सकता है। दांपत्य जीवन में भी परेशानी आएगी। इस समय आपकी संतान को कष्ट होने का योग बन रहा है। नौकरी पेशा लोग अगर कार्य क्षेत्र में कोई मनचाहा ट्रांसफर चाह रहे थे तो इस वक़्त आपको इससे संबंधित कोई सुखद समाचार मिल सकता है। इसलिए इस समय अपने प्रयासों में गति लाए। इसके बाद षष्ठम भाव में चंद्र के गोचर के दौरान आपको यात्रा पर जाने का अवसर मिलेगा और संभावना है कि ये यात्रा विदेश की हो। हालांकि इस दौरान आपका कुछ खर्च भी बढ़ सकता है। सेहत को लेकर भी समय थोड़ा नाज़ुक रहेगा, इसलिए इस समय आपको अपनी सेहत का ध्यान रखना होगा। अन्यथा आपको ख़ासी, जुकाम या बुख़ार होने की संभावना हैं। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र के सप्तम भाव में गोचर करने से आपके जीवन के अलग-अलग साझीदारों से आपके संबंधों में खटास आएगी। इस समय आप अपने गुस्से के चलते अपने दांपत्य जीवन में कुछ परेशानी उत्पन्न कर सकते है, इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि खुद पर संयम रखते हुए ही किसी भी स्थिति में अपनी प्रतिक्रिया दें। आपकी अपने जीवन साथी से नोक-झोंक भी हो सकती है। व्यापारी वर्ग के लिए समय अच्छा है। उन्हें अपने व्यवसाय में सफलता मिल सकती है। हालांकि याद रहे कि पार्टनर-शिप के बिज़नेस में लगे लोगों की अपने साझीदार से किसी कारणवश अन-बन संभव है। इसके बाद सप्ताहांत में चंद्र के अष्टम भाव में गोचर करने से आप खुद के विचारों में गुम नज़र आएँगे। जिससे आपको कार्य में विलंब जैसी परेशानियों से दो-चार होना पड़ सकता है। इस दौरान आपके मन में अवसाद का भाव भी हावी रहेगा जिससे आप खुद को उदास कर देंगे। ऐसे में इस समय खुद को सकारात्मक रखने के लिए थोड़ा धार्मिक आचरण करना आपके लिए बेहतर होगा। इस समय आपका मन आध्यात्मिक कार्य की ओर अधिक रहेगा जिससे आप इन कार्यों में खुद को व्यस्त रखेंगे। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे, इसलिए इस दौरान आपको जीवन के कई क्षेत्रों में कुछ परेशानी हो सकती हैं। पारिवारिक जीवन में माता-पिता के साथ आपके मतभेद होंगे जिसका असर साफ़ तौर से आपके वैवाहिक जीवन पर देखने को मिलेगा। इस समय किसी भी प्रतिकूल परिस्थितियों को अपने अनुकूल करने के लिए आपको धीरज और संयम से काम लेने की ज़रूरत होगी। आपको इस बात को समझना होगा कि कोई भी व्यक्ति बुरी स्थितियों से भागकर कुछ समय के लिए ही दूर जा सकता है, उन्हें टाल नहीं सकता। इसलिए आपको भी इस समय निडरता से निर्णय लेने की ज़रूरत होगी। इसके अलावा वक्री बुध का और मंगल का गोचर द्वितीय भाव में होने से आपके लिए समय थोड़ा कठियानियों से भरा रह सकता है। इस दौरान आपके पारिवारिक संबंधों में कुछ कड़वाहट देखी जाएगी। क्योंकि संभव है कि बिना की ठोस वजह किसी से अनबन हो सकती है, जिससे आपकी छवि को भी नुक्सान पहुँचेगा। हालांकि आपको धन लाभ होने की अच्छी स्थिति रहेगी और आप इस समय पैसों को संचय कर पाने में भी सफल होंगे।
[04/11, 11:13] Sanjay Dwivedi B SNL: वृश्चिक का साप्ताहिक राशिफल…….
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके तृतीया भाव में होगा और इसके बाद चतुर्थ, पंचम और फिर अंत में आपके षष्ठम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के द्वितीय भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके द्वादश भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से तृतीया भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपके किसी यात्रा पर जाने के योग बन रहे हैं। संभावना है कि ये यात्रा छोटी दूरी वाली होगी, जिससे आपको कुछ शारीरिक कष्ट भी हो सकता है। आपके भाई-बहनों के लिए भी समय अच्छा नहीं है। इस दौरान आपके प्रयासों में कमी के चलते आपको सफलता मिलने में विलंब हो सकता है। आपके ऊपर आलस्य की अधिकता होने से काम के प्रति आपका मन नहीं लगेगा, जिसके चलते आशंका है कि आपका कार्यक्षेत्र पर किसी कर्मी से विवाद हो जाए। इसके बाद चंद्र देव आपकी राशि के चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे जिससे आपके पारिवारिक जीवन को लाभ मिलेगा। घर-परिवार के घरेलू कामकाज पर आप इस वक़्त खुद ध्यान देंगे, जिसपर आप धन भी खर्च करेंगे। इस समय आप अपने मन को काम के प्रति काबू कर पाने में भी सफल होंगे। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र देव जब आपकी राशि के पंचम भाव में गोचर कर जाएंगे तब आपको अपने प्रेम संबंधों में कुछ तनाव महसूस होगा। जिसका असर साफ तौर पर आपके घर-परिवार पर देखने को मिलेगा। इस दौरान घर में विवाद की स्थिति न पैदा होने दें अन्यथा बड़े भाई-बहनों से संबंध खराब हो सकते हैं। इसके बाद सप्ताह के अंत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से षष्ठम भाव में विराजमान हो जाएंगे उस वक़्त आपका मन भोग-विलास की चीज़ो में अधिक लगेगा जिससे आप अंतरंग संबंधों में खुद को लिप्त पाएंगे। हालांकि दांपत्य जीवन में इस समय तनाव बना रहेगा और साथ ही आपके खर्च भी काफी हद तक बढ़े-चढ़े रहेंगे। इसलिए आपको ख़र्चों का ध्यान रखने की ज़रूरत होगी। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति आपके द्वितीय भाव में गोचर करेंगे, इसलिए ये गोचर आपको अच्छे फल देगा। आपका आर्थिक पक्ष मजबूत होगा और यदि आपने किसी को धन उधार दिया था तो इस समय उसके वापस मिलने की संभावना भी अधिक दिखाई दे रही है। परिवार के लोगों के बीच आप इस समय खुलकर अपनी बातें रख पाएंगे, जिससे आपको उनका सहयोग मिलेगा। आप घर वालों की मन की बात जानने के लिए उनसे भी बातें कर सकते हैं। संक्षिप्त में कहा जाए तो आप परिवार को एकजुट करने की कोशिश आप इसी समय करते नजर आएँगे। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल ग्रह के आपकी राशि के द्वादश भाव में प्रवेश करने से इस भाव में बुध की स्थिति आपके ख़र्चों में बेतहाशा वृद्धि कर सकती है जिसकी वजह से आपकी आर्थिक स्थिति का संतुलन कुछ हद तक बिगड़ सकता है। संभावना है कि आपको अचानक से कुछ ऐसी यात्राएं करनी पड़े जिसकी वजह से आपका आर्थिक बजट बिगड़ जाए और इससे आपको कई तरह की मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। इस समय ध्यान रहे कि किसी से वाद-विवाद में उलझना आपके लिए अच्छा नहीं रहेगा तथा आपके विरोधी सरल प्रबल रहेंगे, इसलिए उन्हें नज़रअंदाज़ न करते हुए सतर्कता बरतें।

मकर का साप्ताहिक राशिफल………
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके प्रथम यानी लग्न भाव में होगा और इसके बाद द्वितीय, तृतीय और फिर अंत में आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के द्वादश भाव में होगा। तो वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके दशम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी ही राशि में होने से आपको मानसिक तनाव होने की आशंका है जिससे आपका स्वास्थ्य भी कमजोर हो सकता है। सेहत खराब होने के चलते आपके मन में निराशा का भाव आएगा और आप अपने दांपत्य जीवन का आनंद भी सही से उठा पाने में खुद को असमर्थ महसूस करेंगे। हालांकि इसके बाद चंद्र का गोचर आपकी राशि के द्वितीय भाव में होने से आपके विचारों में सकारात्मकता का भाव उत्पन्न होगा, जिसके चलते आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा। आपको इस दौरान अपने पारिवारिक जीवन में सुख शांति की अनुभूति होगी और आपको परिवार संग समय बिताने के साथ ही अच्छे-अच्छे अपनी पसंद के व्यंजन करने का अवसर भी प्राप्त होगा। इस समय आपको अप्रत्याशित धन लाभ हो सकता है। इससे आर्थिक वृद्धि भी संभव होगी। हालांकि हफ्ते में मध्य में चंद्र का गोचर तृतीय भाव में होने से आपको कुछ परेशानी महसूस हो सकती है। अपने पिता से किसी भी तरह के विवाद में न पड़े अन्यथा उनके साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं। इन समय उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या भी हो सकती है। किसी यात्रा पर जाने का मौका मिलेगा लेकिन ये यात्रा आपके लिए शारीरिक कष्टदायक रहेगी। इसलिए अगर मुमकिन हो तो इस यात्रा को कुछ समय के लिए टाल दें। छोटे भाई-बहनों से संबंध भी खराब हो सकते हैं। परन्तु सप्ताह के अंत में जब चंद्र का गोचर चतुर्थ भाव में होगा तो आपको अपनी माता का प्यार और दुलार दोनों ही मिलेंगे। मां के स्नेह को देख आप उनके साथ वक़्त बिताना पसंद करेंगे। इस वक़्त आपको अपने निजी जीवन में खुशहाली का भरपूर एहसास होगा और आपको इस दौरान सबसे ज्यादा सुकून अपने परिवार के साथ घर पर ही मिलेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति देव आपकी राशि के द्वादश भाव में प्रवेश करेंगे, जिसके चलते आपको इस दौरान लंबी दूरी की यात्राओं पर जाने का अवसर मिलेगा। संभावना है कि ये यात्रा कार्यक्षेत्र से संबंधित होगी। द्वादश भाव को हानि भाव भी कहा जाता है इसलिए इस दौरान आपको धन संबंधी मामलों में बहुत सतर्कता बरतने की ज़रूरत होगी अन्यथा आपको हानि हो सकती है। आपको हिदायत दी जाती है कि किसी को भी उधार देने से पहले सही से सोच लें और अगर मुमकिन हो तो इस समय उधार न ही दें। धर्म के प्रति आपकी रुचि बढ़ेगी और आप धार्मिक कार्यों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते दिखाई देंगे। हालांकि छात्रों के लिए यह समय अच्छा रहेगा। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल का गोचर भी आपकी राशि के दशम भाव में होगा जिसके चलते कार्य क्षेत्र में आपकी स्थिति पहले के मुकाबले मजबूत देखी जाएगी। आप जिस मनचाहे कार्य के लिए पिछले कई समय से मेहनत कर रहे थे इस दौरान वो आपको मिल सकता है, जिससे आपका उत्साह तो बढ़ेगा ही साथ ही आपका मन भी उस कार्य में अधिक लगेगा।

धनु का साप्ताहिक राशिफल………
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके द्वितीय भाव में होगा और इसके बाद तृतीया, चतुर्थ और फिर अंत में आपके पंचम भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी ही राशि यानी आपके लग्न भाव में होगा। वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके एकादश भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेंगे, उस वक़्त आपको अपने पारिवारिक जीवन में विवाद-झगड़े की स्थिति से दो-चार होना पड़ सकता है। इस समय अपनी सेहत को लेकर ज़रा भी लापरवाही आपको परेशानी में डाल सकती है। इसलिए कुछ भी खाते हुए विशेष सावधानी बरतें। हालांकि आपको किसी स्रोत से धन लाभ होगा। साथ ही आपको किसी यात्रा पर जाने का अवसर मिल सकता है। इसके बाद चंद्र का गोचर तृतीय भाव में होगा, जिससे आपके साहस और पराक्रम में अचानक से वृद्धि होगा। इसलिए इस समय का सही लाभ उठाते हुए नए कार्यों को करने का प्रयास करें। आपको अपने पिता के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए उनका समर्थन करने की ज़रूरत होगी और इससे आपको छवि को भी लाभ मिलेगा। छोटे भाई-बहनों से भी आपको सहयोग मिलने की संभावना है। सप्ताह के मध्य में चंद्र का गोचर चतुर्थ भाव में होने से आप में अचानक से भावुकता की वृद्धि होगी। ये समय आपके पारिवारिक और पेशेवर जीवन में भी मिश्रित परिणाम लेकर आएगा। आपका मन हमेशा इस दौरान नए-नए कार्यों और विचारों से लिप्त रहेगा। ऐसे में आप किसी एक कार्य में अपना मन नहीं लगा पाएंगे। इसके लिए ही आपको सबसे पहले अपने मन और दिमाग को केंद्रित रखते हुए ही किसी एक कार्य की ओर अपने सारे प्रयास करने की ज़रूरत होगी। अन्यथा आपको भारी नुक्सान उठाना पड़ सकता है। सप्ताहांत में चंद्र का गोचर पंचम भाव में होने पर आप अपनी सुख-सुविधाओं पर खर्च कर सकते है। इस समय आपको अपने प्रेम संबंधों में भी भरपूर सफलता मिलेगी, साथ ही साथी संग रोमांस का मौका भी आप ढूढ़ते नज़र आएँगे। दांपत्य जीवन में संतान पक्ष को अच्छे फल मिलेंगे, जिससे आपका मन भी प्रसन्नचित नज़र आएगा। छात्रों को पढ़ाई-लिखाई में एकाग्रता की कमी महसूस होगी, इसलिए इस समय दिखावे के जीवन से जितना संभव हो खुद को दूर रखें। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति देव आपकी ही राशि में यानी आपके लग्न भाव में प्रवेश करेंगे, जिसके चलते ये गोचर आपके लिए शुभ साबित होगा। इस समय आपको जीवन के हर क्षेत्र में भाग्य का पूरा साथ मिलेगा। यदि आप अपने आर्थिक मामलों को लेकर परेशानी महसूस कर रहे थे तो इस वक़्त आपकी ये सभी परेशानी भी दूर हो जाएगी और संभावना है कि किसी नए स्त्रोत्र से आपको धन का लाभ हो। इस समय आप धन का संचय करने में तो सक्षम होंगे लेकिन आपकी किसी लापरवाही की वजह से आपको कुछ धन हानि हो सकती है, इसलिए आपको विशेष सलाह दी जाती है कि किसी भी तरह के निवेश या लेन-देन के पहले सही से सोच-विचार कर लें। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल ग्रह का गोचर भी आपकी राशि के एकादश भाव में होने जा रहा है, जिसके चलते आपको जीवन साथी के माध्यम से कोई अच्छा लाभ हो सकता है। हालांकि इस समय मुमकिन है कि आप किसी से प्रेम के चक्कर में पड़ जाएं जिसका नकारात्मक प्रभाव आपके दांपत्य जीवन पर पड़ सकता है। कार्य क्षेत्र पर आप अच्छा करेंगे और इसके परिणामस्वरूप वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग आपको पूरी तरह से मिलेगा। इससे कार्य स्थल पर आपके पद-पोजीशन में भी वृद्धि हो सकती है। बड़े भाई बहनों के साथ आपके संबंध सुधरेंगे और आप अपनी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति कर पाने में सफल रहेंगे।

कुंभ का साप्ताहिक राशिफल………
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके द्वादश भाव में होगा और इसके बाद लग्न यानी प्रथम भाव में, द्वितीय और फिर अंत में आपके तृतीय भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के एकादश भाव में होगा। तो वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके नवम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि के द्वादश भाव में होगा तो उस वक़्त आपको अपने खान-पान पर अधिक ध्यान देने की ज़रूरत होगी, अन्यथा संभावना है कि आप अपनी किसी लापरवाही के चलते बीमार पड़ जाएं। इस समय आपके जीवन साथी को भी कुछ स्वास्थ्य कष्ट हो सकता है। इसलिए ज़रूरत पड़ने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। इस वक़्त आपके ख़र्चों में भी अचानक से वृद्धि देखी जाएगी और आपके विरोधी सक्रिय होंगे। इसके बाद जब चंद्र देव आपकी ही राशि में यानि आपके लग्न भाव में गोचर कर जाएंगे तो आपको कुछ हद तक अपने मानसिक तनाव से मुक्ति मिल सकती है। इससे आपको दांपत्य जीवन में भी खुशी की अनुभूति होगी। शत्रु पक्ष पर अभी आप हावी होंगे। इस वक़्त मित्रों और करीबियों के सहयोग से धन लाभ हो सकता है। वहीं कार्य क्षेत्र के किसी कारोबारी मित्र के सहयोग से धन का लाभ होगा। सप्ताह के मध्य में चंद्र का गोचर द्वितीय भाव में होने से पारिवारिक जीवन में कुछ थोड़ी-बहुत हलचल देखी जाएगी। इस समय आप धन संबंधित मामलों में भाग्यवान साबित होंगे, लेकिन संभावना है कि ससुराल पक्ष के लोगों से किसी भी तरह का विवाद उत्पन्न हो जाएं। इस वक़्त आपके स्वास्थ्य में भी उतार-चढ़ाव साफ़ देखने को मिलेगा। हालांकि सप्ताह के अंत में चंद्र का गोचर तृतीय भाव में होने से आपको कार्यक्षेत्र पर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि संभावना है कि आप जिस भी किसी कार्यों को करेंगे उसमें आपका मन नहीं लगेगा जिसके चलते उसे पूरा कर पाने में आप असफल होंगे। यात्रा पर जाने का अवसर मिलेगा जिससे आपको अच्छे अनुभव प्राप्त होंगे। आपके मान-सम्मान में भी बढ़ोतरी होगी। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति देव आपकी राशि के एकादश भाव में प्रवेश करेंगे, जिसके चलते आपको अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखना होगा और समय-समय पर दवाई लेनी होगी तभी आपकी कोई बड़ी समस्या दूर हो पाएगी। इस गोचर से आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा जिसके चलते आप सफलता की नई सीढ़ियां खुद ही चढ़ेंगे। अगर आपके मन में किसी कीमती चीज को पाने की ख़्वाहिश थी तो वो इच्छा भी आप इस समय पूरा कर पाएंगे। इसके अलावा इस सप्ताह वक्री बुध और मंगल का गोचर भी आपकी राशि के नवम भाव में होगा जिसके चलते अचानक से आपको धन लाभ होगा। संभावना है कि किसी प्रकार की कोई पैतृक संपत्ति आपको प्राप्त हो। हालांकि पिता के स्वास्थ्य के लिए समय प्रतिकूल रहेगा, इसलिए उनका सही से ध्यान रखना ही आपकी ज़िम्मेदारी होगी। संतान पक्ष के लिए समय अच्छा रहेगा और इस समय आपकी संतान उन्नति करती दिखाई देगी।

मीन का साप्ताहिक राशिफल……..
इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके एकादश भाव में होगा और इसके बाद द्वादश, फिर लग्न यानी प्रथम भाव में और अंत में आपके द्वितीय भाव में गोचर करेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह जहाँ बृहस्पति देव का गोचर आपकी राशि के दशम भाव में होगा। तो वहीं वक्री बुध और मंगल देव का गोचर भी इस सप्ताह आपके अष्टम भाव में होगा। सप्ताह की शुरुआत में जिस वक़्त चंद्र देव आपकी राशि के एकादश भाव में होगा तो उस वक़्त आपको आर्थिक जीवन में भरपूर लाभ मिलेगा। लेकिन इसके लिए आपको अपने प्रयासों में कमी न लाते हुए लगातार उसके लिए मेहनत करते रहने की ज़रूरत होगी। हालांकि इस समय भाई-बहनों से किसी बात को लेकर विवाद संभव है, उस विवाद को झगड़े का रूप लेने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। कार्य क्षेत्र पर भी आपके काम के चलते आपको अपने वरिष्ठ अधिकारियों से कुछ परेशानी हो सकती है, जिससे आपको मानसिक तनाव रहेगा। इसके बाद चंद्र देव आपके द्वादश भाव में गोचर कर जाएंगे जिससे दांपत्य जीवन में संतान को स्वास्थ्य संबंधित कुछ कष्ट हो सकते हैं जिससे आपको धन की हानि होगी। शत्रु वर्ग इस वक़्त सक्रिय रहेंगे, इसलिए उन्हें नज़रअंदाज़ न करें। इस वक़्त आपको खुद को किसी भी गैर-कानूनी मामले से दूर रखने की ज़रूरत होगी अन्यथा आपकी छवि को नुक्सान पहुँच सकता है। सप्ताह के मध्य में चंद्र का गोचर प्रथम भाव में होने से आप के ऊपर आर्थिक बोझ बढ़ने से तनाव मिलेगा। इस तनाव से आपके मन में अजीब सी बेचैनी आएगी जो आपके काम पर असर डालेगी। मन में चल रहे नकारात्मकता के भाव आपके दांपत्य जीवन को प्रभावित करेंगे, जिससे उसमें तनाव महसूस होगा। बाकी कार्य क्षेत्र पर यदि आप मेहनत करने से नहीं डरते हैं तो आपके लिए समय अच्छा ही रहेगा। इसके बाद सप्ताहांत में चंद्र का गोचर द्वितीय भाव में होने से आपको धन और आर्थिक मामलों में अच्छा फायदा मिलेगा। ये समय आपके लिए सुबह रहेगा और आपको धन लाभ का प्रबल योग बनता दिखाई देगा। इस समय आपका किसी से वाद विवाद भी हो सकता है, जिस दौरान आप अपनी बात निडरता से रख पाएंगे जिससे आपको भी लाभ मिलेगा। पारिवारिक जीवन के लिए भी इस समय स्थितियाँ अनुकूल रहने वाली हैं। परिवार में सुख-शांति रहेगी और आपको नए-नए पकवान खाने का मौका मिलेगा। इसके साथ ही इस सप्ताह बृहस्पति देव आपकी राशि के दशम भाव में प्रवेश करेंगे, जिसके चलते यह समय आपके लिए शुभ रहने की उम्मीद है। जो लोग नौकरी करते है उनके लिए ये समय नई-नई जिम्मदारियां लेकर आने वाला है। जो लोग ट्रांसफर की चाह कर रहे थे उनका इस दौरान तबादला भी हो सकता है। हालांकि स्थान परिवर्तन से आपको शुरुआत में कुछ दिक्कतें महसूस होंगी, लेकिन बाद में संभव है कि समय के साथ आपको इसकी आदत पड़ जाएगी। पारिवारिक जीवन अच्छा रहेगा और इस समय आपको अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। पूर्व से आपकी माताजी की खराब सेहत में इस वक़्त सुधार देखने को मिलेगा। हालांकि इस दौरान आपको खुद की सेहत का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। इसके लिए सबसे बेहतर होगा कि अपने लिए ज़रूरी समय निकाले और व्यायाम और योग करें। इसके अलावा वक्री बुध और मंगल ग्रह का गोचर भी इस हफ्ते आपकी राशि के अष्टम भाव में होगा तो इस दौरान आपको आर्थिक लाभ तो होगा ही साथ ही आपकी मानसिक चिंताओं में भी वृद्धि देखने को मिलेगी। दांपत्य जीवन में भी कुछ परेशानियाँ महसूस होंगी। ससुराल पक्ष के लोगों से विवाद हो सकता है। अनचाही यात्रा पर भी जाने की संभावना है।

अपने शहर का अपना एप अभी डाउनलोड करें .

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com