Wednesday , September 28 2022

असहयोग आंदोलन की 101वीं वर्षगांठ पर आयोजित हुई संगोष्ठी

राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा हमारे हृदय में देश पर मर मिटने का जज्बा जगाता है- दीपक कुमार

-दुद्धी क्षेत्र के सेनानी परिजन हुए सम्मिलित।

-संस्कारी सम्मान से सम्मानित हुए अतिथिगण।

सोनभद्र(सर्वेश श्रीवास्तव): राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा हमारे हृदय में देश पर मर मिटने का जज्बा जगाता है। आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष के अंतर्गत आयोजित तिरंगा यात्रा, हर घर तिरंगा, हर हाथ में तिरंगा के नारो से हमारी भावी पीढ़ियां संस्कारित होंगी। देश के प्रत्येक नागरिक को अपने घर प्रतिष्ठान पर सम्मान सहित तिरंगा फहराना चाहिए। दुद्धी क्षेत्र में सन 1921 से 1947 तक चलने वाले स्वतंत्रता आंदोलन में 17 नाम एवं कई नाम स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने भाग लिया और अंग्रेजों के जोर जुल्म के शिकार हुए, जिला प्रशासन सोनभद्र द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की स्मृति में द्वार, सड़को, भवनो सार्वजनिक स्थलों,अमृत सरोवरो का नामकरण कर सेनानियों को समान प्रदान करना चाहिए। यही अमृत महोत्सव की सार्थकता है। उपरोक्त विचार विंध्य संस्कृति समिति उत्तर प्रदेश ट्रस्ट के निदेशक, वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार दीपक कुमार केसरवानी ने आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष के अंतर्गत दुद्धी में असहयोग आंदोलन की 101वी वर्षगांठ की स्मृति में साहित्यिक, सांस्कृतिक, सामाजिक संस्था उत्थान मंच के तत्वाधान में शुक्रवार की देर शाम लल्लन प्रसाद शिक्षण संस्थान, बघाडू मे “दुद्धी के स्वतंत्रता संग्राम मे सेनानियों का योगदान” विषययक संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में अपना विचार व्यक्त किया। वही मंच पर बतौर विशिष्ट अतिथि के रूप में पंचायत बघाडू दुद्धी के सदस्य जुबेर आलम, राष्ट्रीय शायर हसन सोनभद्री, अधिवक्ता मुरलीधर, आदिवासी लोक केंद्र की सचिव

साहित्यकार प्रतिभा देवी, कवित्री तृप्ति केसरवानी, समाजसेवी राजेश कुमार अग्रहरी, पत्रकार हर्षवर्धन उपस्थित रहे। इस अवसर कार्यक्रम के प्रेरक, संस्कारी समूह संस्था के प्रभारी ईशहाक खान द्वारा दुद्धी क्षेत्र के अब्दुल्ला अंसारी, स्वतंत्रता ंसंग्राम सेनानी सुखन अली के वंशज, गवर्नमेंट मीडिया दिल्ली दूरदर्शन केंद्र के मोहम्मद इसहाक खान, ईशु मसीह के वंशज गुड्डू मसीह, सैयद सखावत हुसैन के वंशधर शायर हसन सोनभद्री, हाफीज अंसारी, नुरुल अंसारी, शिशिर कुमार राय, चंद्रधर अग्रहरि, बशीर खान,अलिमुद्दीन सेराजी, संतोष कुमार, डब्लू,मो. ताज, लोक कलाकार संतोष कुमार संस्कारी सम्मान से सम्मानित किया गया। वही कार्यक्रम का सफल संचालन समाजसेवी, कठपुतली कलाकार हरिहर प्रसाद यादव ने किया गया। कार्यक्रम में आयोजक संस्थान की छात्र-छात्राएं, शिक्षक एवं विशिष्ट जन उपस्थित रहे। इसके पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन, माल्यार्पण करके किया गया। वही कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान भारत माता की जय के गगनभेदी नारों से हुआ।

Translate »