जानिये पंडित वीर विक्रम नारायण पांडेय जी से (ज्योतिष् ज्ञान) मंगल अष्टकवर्ग परिचय

धर्म डेक्स। जानिये पंडित वीर विक्रम नारायण पांडेय जी से (ज्योतिष् ज्ञान) मंगल अष्टकवर्ग परिचय



मंगल का अष्टकवर्ग
(1) यदि मंगल को
अपने अष्टक वर्ग में 8 शुभ विंदु मिले तो
जातक महान पराक्रमी शत्रु हंता ,धन और
भूसंपदा का लाभ पाने वाला होता है।

(2) यदि मंगल 7 शुभ बिंदु पाए तो जातक बल
प्रताप युक्त धनी-मानी होता है ,उसके भाई बहन धन वैभव संपन्न होते हैं जातक से पूरा सहयोग करते हैं।

(3) अपने अष्टक वर्ग में 6 बिंदु पाने वाला
मंगल राजा कृपा से धन मान व्यक्त पद-
प्रतिष्ठा दिलाता है।

(4) 5 बिंदु पाने वाला मंगल जातक को गुणी
साहसी व सदाचारी बनाता है।

(5) 4 बिंदु पाने वाला मंगल अपने कारक्तव
का सामान्य फल देता है जातक कभी भाइयों से स्नेह सम्मान तो कभी उपेक्षा या अवमानना पाता है।

(6) 3 बिंदु पाने वाला मंगल भाइयों से सुख
की कमी करता है कोई जातक बल पराक्रम
से हीन होने से कष्ट पाता है।

(7) 2 बिंदु पाने वाला मंगल भाइयों से भेद
मतभेद तो कभी वैर-विरोध देता है भूसंपदा
नष्ट होने से जातक क्लेश पता है।

(8) यदि मंगल अष्टक वर्ग में 1 बिंदु पाए तो
कभी दुर्घटना से अंग भंग की संभावना या
जातक सामान्य जीवन नहीं जी पाता।

(9) मंगल अष्टक वर्ग में 0 विंदु पाये तो जातक
को उदर विकार पाचन क्रिया मे दोष
,ज्वर ,मूर्छा रोग , मिर्गी तथा मृत्यु भय
दिया करता है।

[/responsivevoice]

अपने शहर का अपना एप अभी डाउनलोड करें .

Loading...
Translate »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com