जहाँ शांति होती है वहाँ लक्ष्मी का वास होता है

धर्म डेस्क।शुक्रवार की दिन महालक्ष्मी की विधिविधान पूर्वक वेद मंत्रों के बीच पूजा अर्चना मन क्रम बचन से करता है उसे धन धान्य की प्राप्ति होती है।पंडित राम यश पांडेय ने बताया कि कि जहाँ शांति होती है वहाँ लक्ष्मी का वास होता है।घर मे सुख शांति एवं कष्टों को दूर करने के लिये आचार्यो ने नानाप्रकार के उपाय बताये है।

जानें इस उपाय को आखिर करना कैसे हैं।

इतना ही नही अगर आप दुखी अगर आप अपनी मनचाही इच्छा पूरी करना चाहते हैं और सारे दुखों, कष्टों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो शुक्रवार की रात 9 बजे से रात 12 बजे के बीच इस रामबाण टोटके को करने से सभी मनोकामनां हो जायेगी पूरी। इस उपाय को करते समय ध्यान रखें की आपको कोई भी रोके-टोके नहीं।

विद्वानों का मानना है कि शुक्रवार की रात को घर के पूजा स्थल पर एक चौकी पर सफेद कपड़े का आसन लगाकर उसपर कलश रखें। कलश के ऊपर शुद्ध केसर से स्वस्तिक का चिन्ह बनाकर उसमें पानी भर दें। अब कलश में चावल, दूर्वा और एक सिक्का डाल दें। फिर एक छोटी सी प्लेट में चावल भरकर उसे कलश के ऊपर रख दें। अब उसके ऊपर श्रीयंत्र की स्थापना कर दें। फिर उसी कलश के बाई ओर चार बत्ती वाला दीपक जलाकर उसका कुंकुम और चावल से पूजन करें। इसके बाद 15 मिनट तक माता लक्ष्मी का ध्यान करें। आपकी मनोकामना अवश्य पूरी होगी।

2- अमावस्या के दिन चावल की खीर बनाकर उसमें एक रोटी को बारिक पीसकर मिला लें, अब इसे कौओं के खाने के लिए अपने घर की छत पर रख दें। इस उपाय से घर के पितरों का आशीर्वाद मिलने के साथ पितृ दोष से मुक्ति भी मिलेगी। अगर कुंडली में किसी प्रकार का पितृ दोष हो तो उसका अशुभ असर भी समाप्त हो जाता है। साथ ही रूके हुए काम बनने लगता है।

3- अगर किसी जातक की कुंडली में चंद्र अशुभ हो या किसी दुष्ट ग्रह के प्रभाव से अपना पूरा असर नहीं दे पा रहा है, तो ऐसे जातक को अपनी माता से एक मुट्ठीभर चावल विधिपूर्वक दान ले लेने चाहिए। इससे हमेशा के लिए चन्द्रमा की अशुभवता दूर हो जाती है।

4- किसी शुभ मुहूर्त या पूर्णिमा के दिन चावलों को केसर या हल्दी में रंग कर पीला कर लें। ध्यान रखें कि चावल का कोई भी दाना टूटा हुआ न हो। अब इन चावलों को किसी मंदिर में जाकर भगवान को समर्पित कर दें और उनसे अपनी इच्छा पूरी करने की प्रार्थना करें। जल्दी ही आपकी सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com