अमेरिकी मैग्जीन ने प्राणायाम को बताया कार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग, भारतीय बोले, हमारा ज्ञान चुराकर नाम बदलना इनकी संस्कृति

[ad_1]


हेल्थ डेस्क. अमरीकी पत्रिका साइंटिफिक अमेरिकन ने प्राणयाम की तरह किए जाने वाले योगिक व्यायाम को कार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग का नाम दिया है। मैग्जीन के ट्विटर हैंडल पर एक पोस्ट में इसे धड़कनों को स्थिर और मन को शांत रखने वाला बताया गया है। पोस्ट से एक बात साफ है कि मैग्जीन कार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग के बहाने प्राणायाम की बात कर रही है। मैग्जीन की पोस्ट से विवाद की शुरूआत हुई है। कांग्रेस सांसद शशि थरूर समेत कई भारतीय यूजर ने भी इसका विरोध किया है। आईआईटीयन संक्रांत सानू ने मैग्जीन को ट्वीट करते हुए लिखा, हमारी प्राचीन भारतीय संस्कृति से ज्ञान चुराकर इसे नया नाम देना और इस पर अपना दावा करना, फिर हमारी परंपराओं को अंधविश्वास कहकर उन पर हमला बोलना पश्चिम का इतिहास रहा है।

https://platform.twitter.com/widgets.js

  1. मैग्जीन ने प्रॉपर ब्रीदिंग ब्रिंग्स बेटर हेल्थ में कार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग के बारे में बताया है, जिसमें सांस लेने जैसी कई तकनीकों पर ध्यान दिया गया है। इसमें बताया गया है कि कैसे इस एक्सरसाइज से अनिद्रा और मन को शांत रखा जा सकता है, नियमित करते रहने से कैसे रक्तचाप को नियंत्रित किया सकता है।

  2. कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी लिखा, 2500 साल पुरानी प्राणायाम की भारतीय तकनीक के फायदों का विस्तार से वर्णन, 21वीं सदी की वैज्ञानिक भाषा में कार्डियक कोहरेंस ब्रीथिंग! पश्चिमी देशों को अभी कुछ सदियां लग जाएंगी ये सब सीखने में जो हमारे पूर्वज एक जमाने पहले सिखाकर गए हैं। लेकिन, आपका स्वागत है”। थरूर के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर इसे शेयर करते ही भारतीयों ने मैग्ज़ीन की काफी आलोचना की।

    https://platform.twitter.com/widgets.js

  3. पोस्ट अपलोड होते ही भारतीय यूजर ने मैग्जीन की काफी आलोचना की और प्राणायाम का अर्थ बताते हुए इसके नामकरण का विरोध किया। हिंदू अमरीकन नाम के पेज ने ट्वीट किया कि ये कार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग नहीं बल्कि प्राणायाम है और भारत में ये लम्बे समय से है। हिंदुओं के आइडिया चुराकर उसका नाम बदलना छोड़ो। एक अन्य यूजर तनवी नरुला लिखती हैं कि हां, इसे प्रणायाम कहते हैं, ये योगा का हिस्सा है। इसे हथियाने से पहले एक बार इसके बारे में जान लेते।

  4. सोशल मीडिया पर प्राणायाम को लेकर शुरू हुई बहस जीरोतक पहुंच गई। एक विदेशी यूजर ने लिखा जीरो का पहली बार इस्तेमाल मैसोपोटामिया में हुआ था तो दूसरे यूजर ने प्राणायाम को आधुनिक नाम देने की वकालत की। वहीं एक भारतीय यूजर ने मैग्जीन को टैग कर विरोध जताते हुए लिखा, प्राणायाम का आधुनिक नामकार्डियक कोहेरेंस ब्रीदिंग और योग निद्रा को बदलकर ल्यूसिड ड्रीमिंग कर दिया है।

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      scientific american magazine gives modern name to pranayam called Cardiac coherence breathing exercises

      [ad_2]
      Source link

Translate »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com