जीवनशैली में बदलाव से होगा स्ट्रोक से बचाव-डॉ. शिवराज इंगोले

हेल्थ डेस्क।स्ट्रोक, जिसे कभी-कभी मस्तिष्क का दौरा भी कहा जाता है, तब होता है जब मस्तिष्क के हिस्से में रक्त की आपूर्ति ब्लॉक हो जाती है या जब मस्तिष्क में एक रक्त वाहिका फट जाती है। इससे मस्तिष्क के ऊतकों में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो जाती है और फिर कुछ मिनटों के भीतर, मस्तिष्क की कोशिकाएं मरना शुरू हो जाती हैं। इन दोनों मामलों में मस्तिष्क के कुछ हिस्से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं या मर जाते हैं। स्ट्रोक से स्थायी मस्तिष्क क्षति, दीर्घकालिक विकलांगता, या यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है।
मुंबई के जे जे अस्पताल एवं ग्रांट मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर और इंटरविंशनल रेडियोलाजिस्ट डॉक्टर शिवराज इंगोले का कहना है कि स्ट्रोक एक चिकित्सीय आपातकालीन स्थिति है, जिसमे तत्काल उपचार महत्वपूर्ण है। तत्काल उपचार व प्रारंभिक कार्रवाई मस्तिष्क क्षति और संभावित जटिलताओं को कम कर सकती है। स्ट्रोक का इलाज किया जा सकता है और इसे होने से रोका जा सकता है।
स्ट्रोक दो प्रकार के होते हैं। मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में रुकावट के कारण स्ट्रोक (इस्केमिक स्ट्रोक)। यह सबसे आम प्रकार का स्ट्रोक है। इस तरह का स्ट्रोक सबसे अधिक होता है, जब एक धमनी पट्टिका (एथेरोस्क्लेरोसिस) या रक्त के थक्के से भरा होता है। इस्केमिक स्ट्रोक एक रक्त वाहिका में अधिक गंभीर रुकावट के कारण होता है और टीआईए की तुलना में अधिक गंभीर होता है। इस्केमिक स्ट्रोक सबसे अधिक बार उन्नत कैरोटिड ओक्लूसिव बीमारी के कारण होता है, जिसमें एक संकरी धमनी में थक्का बन जाता है और मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह पूरी तरह से अवरुद्ध हो जाता है (जिसे घनास्त्रता कहा जाता है)। थक्का संकुचित धमनी से टूट सकता है और मस्तिष्क में एक धमनी को गहरा कर सकता है। इस्केमिक स्ट्रोक तब भी हो सकता है जब हृदय या शरीर के अन्य भाग में रक्त का थक्का बनता है, अंततः मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को रोकता है। इस्केमिक स्ट्रोक रक्तस्रावी स्ट्रोक से अधिक सामान्य है, और यह आमतौर पर 60 से अधिक उम्र के लोगों में होता है।
मस्तिष्क में रक्तस्राव के कारण होने वाला स्ट्रोक (रक्तस्रावी स्ट्रोक) इस प्रकार का स्ट्रोक तब होता है जब मस्तिष्क में रक्त वाहिका फट जाती है, और रक्त मस्तिष्क में बह जाता है। इस प्रकार का स्ट्रोक धमनीविस्फार के कारण हो सकता है, जो धमनी में एक पतली या कमजोर जगह है जो फट सकता है।
दोनों प्रकार के स्ट्रोक से मस्तिष्क की कोशिकाएं मर सकती हैं। मस्तिष्क का कौन सा हिस्सा स्ट्रोक को प्रभावित करता है इसके आधार पर, आपको अपने भाषण, आंदोलन, संतुलन, दृष्टि या स्मृति के साथ समस्या हो सकती है। डॉक्टर शिवराज कहते हैं कि अगर आपको लगता है कि आपको स्ट्रोक हो रहा है, तो तत्काल इमर्जैंसी पर कॉल करें।
डॉक्टर के अनुसार अपने स्ट्रोक जोखिम को कम करने के लिए रक्तचाप को नियंत्रित करना आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है। तनाव का प्रबंधन करने से, सही खान पान व स्वस्थ वजन बनाए रखने से, व्यायाम करने से, और सोडियम और अल्कोहल या शराब की मात्रा को सीमित करने से उच्च रक्तचाप को नियंत्रित किया जा सकता है। जीवनशैली में बदलाव के सलाह के अलावा, आपका डॉक्टर उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए दवाएं लिख सकता है। अपने आहार में कोलेस्ट्रॉल व संतृप्त वसा की मात्रा कम करके आप स्ट्रोक से बचाव कर सकते हैं। तम्बाकू के प्रयोग से व धूम्रपान करने से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। उनके लिए भी जो अप्रत्यक्ष रूप से हानिकारक धुएं को ले रहे हों। धूम्रपान न करें। फलों और सब्जियों से समृद्ध आहार को रोज़ खाने से स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।
[/responsivevoice]

अपने शहर का अपना एप अभी डाउनलोड करें .

Loading...
Translate »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com