नक्सल प्रभावित क्षेत्र में है दूरसंचार सेवाओं का अभाव

0

कोन/सोनभद्र-(नवीन चंद्र)-नक्सल प्रभावित कोन थाना क्षेत्र के दुरूह गांवों में आज भी दूरसंचार की व्यवस्था नही पहुंच सकी है।झारखण्ड उत्तर प्रदेश की सीमा पर स्थित गांव नकतवार, नैकहा, मझिगवां,चांचीकला, चांचीखुर्द,नरहटी जो सुरक्षा व नक्सल फ्रंट के दृष्टिकोण से काफी सम्बेदनशील हैं,इन गांवों में  किसी भी कम्पनी का नेटवर्क नही है।यहाँ के लोग कभी पहाड़ों पर तो कभी पेड़ पर चढ़कर मोबाइल में नेटवर्क पकड़ाते हैं,इंटरनेट का प्रयोग तो दूर अच्छे से बात भी नही हो पाती।चांचीकला के ग्रामप्रधान मिथिलेश कुमार का कहना है कि गांव में मोबाईल नेटवर्क नही होने से काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ता है,वहीं ग्रामीण कमलेश कुमार,मुन्नालाल,सुरेश,इत्यादि का कहना है कि वर्तमान सरकार डिजिटल इंडिया की बात तो करती है,परन्तु डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने के लिए दुरूह क्षेत्रों में दूरसंचार सेवाओं का विस्तार नही कर रही है।चांची कला चौकी इंचार्ज गिरधारी सिंह ने बताया कि हम पुलिस वालों को जरूरी बात करने के लिए दूसरी मंजिल के छत पर चढ़ना पड़ता है ,कभी कभी जरूरी विभागीय सूचनाएं भी हम तक पहुंचने में विलंब हो जाता है।झारखण्ड के सीमावर्ती गावों के अलावा क्षेत्र के सुदूर भालुकुदर,अजनिया,ढोडियाही, सतदुआरी इत्यादि गांव भी दूरसंचार सेवाओं से मरहूम हैं।उक्त गांवों के लोग भी अन्य क्षेत्रों के तरह डिजिटल इंडिया का हिस्सा बनने के लिए बेचैन हैं,कई ग्रामीणों ने तो बिना नेटवर्क के ही एंड्रॉयड मोबाईल सेट खरीद लिया है और गांव से दूर नेटवर्क एरिया में जाकर अपना शौक पूरा करते हैं।ग्रामीणों ने जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराते हुए मोबाईल टॉवर स्थापित कराने की मांग किया है।

Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!