कभी थे साफगोई के लिए विख्यात आईने, मगर अब दे रहे हैं गिरगिटों को मात आईनें’’

0

image

अमलोरी में हुआ अखिल भारतीय कवि सम्मेलन

बड़ी संख्या में श्रोताओं ने उठाया कार्यक्रम का आनंद
संजय द्विवेदी /नौशाद अंसारी
जयंत सिगरौली।नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) में सोमवार रात को ’अखिल भारतीय कवि सम्मेलन’ का आयोजन किया गया। अमलोरी क्षेत्र के वसुंधरा स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में हिन्दी के कई जाने-माने कवियों और गायक-गायिकाओं ने बड़ी संख्या में मौजूद श्रोताओं का भरपूर मनोरंजन किया। कवि सम्मेलन में अमलोरी क्षेत्र के महाप्रबंधक श्री एस0 के0 गोमास्ता बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित थे। साथ ही, सीएमओएआई के सचिव श्री सर्वेश सिंह, एनसीएल स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड के सदस्य श्री शिवमुनि सिंह और अमलोरी क्षेत्र की प्रथम महिला एवं सुरभि महिला समिति की अध्यक्षा श्रीमती नीरजा गोमास्ता बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित थे।

image

कार्यक्रम में देश भर से हिंदी प्रख्यात 9 कवियों एवं गायक-गायिकाओं ने अपनी प्रस्तुतियां दीं। कार्यक्रम की शुरूआत श्रीमती उर्मिला उर्मि ने सरस्वती वंदना के साथ की। कवि सम्मेलन में प्रख्यात कवि श्री राजेश विद्रोही की ’’कभी साफगोई के लिए विख्यात आईने, मगर अब दे रहे हैं गिरगिटों को मात आईनें’’ प्रस्तुति पर कार्यक्रम स्थल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।
हास्य कवि श्री मक्खन मुरादाबादी की प्रस्तुति ’’हमको क्या समझेंगे यार जमाने वाले, हम दो ही तरह के हैं हिंदुस्तानी’’ ने सभी श्रोताओं को तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में जाने-माने लाफ्टर कवियों – श्री पार्थ नवीन, श्री जानी बैरागी और पंडित अशोक नागर ने श्रोताओं की मांग पर हास्य रस से भरी हुई कविताएं सुनाकर श्रोताओं को हंसी से लोट-पोट कर दिया और श्रोताओं की खूब वाह-वाही लूटी।

सोनभद्र के जाने-माने वीर रस कवि डॉ0 कमलेश राजहंस ने देशभक्ति की अलख जगाने हेतु ओज से भरी ’’दुश्मन की गोली खाने को जो सरहद पर खड़ा हुआ है, वो किसान का बेटा है, जो आंसू पीकर बड़ा हुआ है’’ कविता सुनाई, जिसे सुनकर सभी श्रोता देशभक्ति की भावना से ओत-प्रोत हो गए। राष्ट्रवारी कवि श्री शंकर कैमूरी ने भी अपनी राष्ट्रवादी कविताओं से श्रोताओं में देशभक्ति की भावना जागृत की।

image

श्रीमती पूनम श्रीवास्तव ने अपनी मधुर आवाज से गीत एवं गजलें गाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर अपनी आवाज एवं गायन विद्या का कायल कर दिया। श्री मक्खन मुरादाबादी ने कवि सम्मेलन की अध्यक्षता की, जबकि डॉ0 कमलेश राजहंस ने मंच का संचालन किया।

अमलोरी प्रबंधन ने एनसीएल की ओर से सभी कवियों एवं गायक-गायिकाओं को सम्मानित किया और अमलोरी क्षेत्र में यादगार प्रदर्शन देने के लिए आभार भी व्यक्त किया। कवि सम्मेलन के सभी प्रतिभागियों ने श्रोताओं से मिले प्यार और सम्मान के लिए उपस्थित सभी जनों का धन्यवाद दिया।

अमलोरी क्षेत्र के महाप्रबंधक श्री एस0 के0 गोमास्ता ने कार्यक्रम में आए सभी मेहमानों एवं श्रोताओं का स्वागत किया, जबकि क्षेत्र के स्टाफ अधिकारी (कार्मिक) श्री पी0 के0 दूबे ने रामायण की चौपाई के गायन के साथ धन्यवाद ज्ञापन दिया। कार्यक्रम में एनसीएल के विभिन्न क्षेत्रों के अधिकारी-कर्मचारी गण, श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधि एवं उनके परिजनों सहित बड़ी संख्या में साहित्य के अनुरागी लोग उपस्थित थे।

Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!