विश्व हिन्दू परिषद का मानना है कि राम मंदिर आस्था का मामला है जमीन का नही

0

सोनभद्र(रवि पांडेय) उच्चतम न्यायालय द्वारा राम मन्दिर मामले में सुनवाई को लेकर यह स्पष्ट रूप से कहा है कि यह मामला आस्था का नही बल्कि जमीन का है । इसके साथ ही आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर जी ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर मध्यस्थता कर रहे है लेकिन इस सब के अलग विश्व हिन्दू परिषद का मानना है कि राम मंदिर आस्था का मामला है जमीन का नही और रवि शंकर जी की मध्यस्थता करने को साफ मना कर रहा है । इन बातों को सोनभद्र में परिषद के कार्यकर्ताओ की बैठक लेने आये क्षेत्र संगठन मंत्री अम्बरीष जी ने प्रेसवार्ता के दौरान कहा। 

image

सोनभद्र के लायन्स क्लब हाल में विश्व हिन्दू परिषद के अम्बरीष जी (क्षेत्र संगठन मंत्री, विश्व हिन्दू परिषद) ने कार्यकर्ताओं की बैठक लेने के बाद प्रेसवार्ता में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर वह कुछ नही बोलेंगे लेकिन राम मंदिर देश की जनता के आस्था का मामला है ना कि जमीन का क्योकि 76 युद्धों में पौने चार लाख लोगों ने अपनी जान दी है तो यह कैसे कह दिया जा की यह जमीन का मामला है आस्था का नही।

image

वही आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर जी द्वारा राम मंदिर निर्माण मामले पर मध्यस्थता करने को लेकर कहा कि उनको किसने मध्यस्थता के लिए कहा । यह मध्यस्थता तभी होगी जो हमारी तीन मांगो पहली राम जन्मभूमि पर मन्दिर का निर्माण, दूसरी अयोध्या सांस्कृतिक क्षेत्र में मस्जिद का निर्माण नही होगा और तीसरा भारत मे कही पर भी बाबर के नाम पर मस्जिद का निर्माण नही होगा   । 
इसके साथ ही विभाग  मंत्री व प्रान्त के सत्संग प्रमुख नरसिंह त्रिपाठी  ने बताया कि विभाग 200 स्थानों पर श्रीराम महोत्सव व धर्म रक्षा निधि अर्पण और 16 स्थानों पर शोभा यात्रा निकाली जाएगी। इस कार्यक्रम का संचालन विभाग संयोजक व प्रान्त मिलन प्रमुख सत्य प्रताप सिंह ने किया।
इस मौके पर  संतोष अग्रहरि, सतीश पाठक, सीबी राय, राजेश सिंह, विशाल, गुप्ता, जितेंद्र सिंह, अशोक गोस्वामी , जगमन्द्र सेन अग्रवाल, श्यामधर मिश्रा, नीरज दूबे, अरविंद जायसवाल, ओपी खण्डेलवाल, पवन , ज्ञानेंद्र शरण राय, नागेंद्र राय समेत विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Share.

About Author

Leave A Reply

error: Content is protected !!