Breaking News
Home / National / जो हमारे एग्रीमेंट में है उसे पूरा करके दूंगा,एप्को टोलप्लाज के प्रबंधक

जो हमारे एग्रीमेंट में है उसे पूरा करके दूंगा,एप्को टोलप्लाज के प्रबंधक

सोनभद्र(सीके मिश्रा/संतोष सोनी)वाराणसी – शक्तिनगर मार्ग पर बने राबर्टसगंज में बने फ्लाई ओवर के नीचे फैली दुर्व्यवस्था पर

image

एप्को टोल प्लाजा के प्रबंधक आर के कुंडू का कहना है कि सुंदरीकरण का कार्य हमारे एग्रीमेंट में नही है रही गढ्डों ,नालियों,ह्यूम पाइप की बात तो जो रह गया होगा उसे बहुत जल्द पूरा कराया जाएगा।आगे बताया कि कई बार अधूरे कार्यो को करने का प्रयास किया गया लेकिन फ्लाई ओवर के नीच स्थानीय लोगो द्वारा काफी अतिक्रमण किया गया है,जब भी कार्य करने का प्रयास किया जाता है कोई न कोई व्यवधान उत्पन्न हो जाता है।उन्होंने बताया कि फ्लाई ओवर के नीचे के सभी गड्डो को,टूटी नालियों और बीच मे क्रासिंग खुले होने के कारण दुर्घटना होने की संभावना को देखते हुए पाइप लगाने का कार्य किया गया है जो रह गया है उसे स्थानीय लोग लगाने नही दे रहे है।वही पथ प्रकाश की बात और उनका कहना था कि हमारे एग्रीमेंट में पथ प्रकाश का उल्लेख नही है इस संबंध में उपसा से बात हो रही है जैसा निर्देश प्राप्त होगा आगे किया जाएगा।बढ़ौली चौक पर अधूरी साइड रोड पर उनका कहना था कि उसमें कोर्ट केश चल रहा है जैसे ही कोई फैसला आएगा रोड़ का निर्माण करा दिया जाएगा।रही सफाई की बात तो यह नगर पालिका का कार्य है जिसे करना चाहिए।

image

इस मामले पर नगर पालिका अध्यक्ष वीरेंद्र जायसवाल का कहना था कि पथ प्रकाश की व्यवस्था उनके एग्रीमेंट में है।एग्रीमेंट की कापी मांगी गई है।साथ ही कहा कि ओवर ब्रीज के नीचे गड्ढो को पटवाकर उसमें ईंटो का खड़ंजा उपसा द्वारा बनवाया जाय।
बहरहाल उपसा और नगर पालिका का जो भी विवाद हो लेकिन जनता को स्वच्छ और सुंदर नगर चाहिए जिसके लिए जरूरत पड़े तो नगर पालिका और उपसा को बार बार बैठक करना चाहिए और इसका सही निर्णय निकालकर सुंदरीकरण का कार्य बहुत ही सीघ्र होना चाहिए।

About C.K.Mishra

Check Also

कार्यदायी संस्थाओं के पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक 20 जनवरी को

सोनभद्र(सीके मिश्रा/संतोष सोनी)जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय की अध्यक्षता में 20 जनवरी, 2018 को कलेक्ट्रेट मीटिंग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: